Describe the reasons for the rise of Magadha In Hindi

छठी शताब्दी ई. पू. से चौथी शताब्दी ई. पू. तक एक साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में मगध के विकास के निम्नलिखित प्रमुख कारण थे :

(i) मगध के इस राजनीतिक उत्कर्ष के पीछे इसकी भौगोलिक स्थिति थी। इसकी राजधानी राजगृह या गिरिब्रज सामरिक दृष्टि से अत्यन्त सुरक्षित थी। मगध का क्षेत्र कृषि की दृष्टि से काफी उर्वर था। व्यापार एव उद्योग धन्धे विकसित अवस्था में थे।

(ii) मगध के दक्षिणी क्षेत्र (आधुनिक झारखंड) में खनिज सम्पदा लोहा आदि प्रचर मात्रा में था लाल से उपकरण एवं हथियार बनाये जाते थे।

(iii) इस क्षेत्र में घने जंगलों में हाथी काफी संख्या में उपलब्ध थे, जिनका युद्ध में काफी महत्त्व था। इन पर दलदल भूमि या दुर्लभ स्थानों में भी सवारी की जा सकती थी। किलों या दुर्गों को धवस्त करने में भी हाथी काफी उपयोगी थे।

(iv) गंगा तथा उसकी सहायक नदियों से निकटता के कारण आवागमन सस्ता एवं सुलभ था।

(v) लेकिन आरम्भिक जैन एवं बौद्ध लेखकों ने मगध की महत्ता का कारण विभिन्न शासकों की नीतियों को बतलाया है। इन लेखकों के अनुसार बिंबिसार, अजातशत्रु और महापद्म जैसे मगध के प्रसिद्ध शासक अत्यन्त महत्वाकांक्षी थे और इनके योग्य मंत्रियों ने इनकी महत्वाकांक्षी नीतियों को सफलतापूर्वक लागू किया।