War and Peace essay in Hindi

छीनता   हो     स्वत्व   कोई, और तू
त्याग, तप से काम ले, यह पाप है।
 पुण्य है विच्छिन्न कर देना उसे
    बढ़ रहा तेरी तरफ जो हाथ है। 

मानवजाति का दीर्घपरिसर इतिहास रक्ताक्त युद्धों की एक लंबी परंपरा से पूर्णतः कलंकित है। नार्वे के एक प्राध्यापक ने गणना-यंत्र की सहायता से बतलाया है कि 5,560 वर्षों के लिखित इतिहास में कुल 14,531 युद्ध हुए। अर्थात, प्रत्येक वर्ष ढाई से भी अधिक युद्ध हुए।

चाहे देवासुर-संग्राम हो या पाषाणयुग के बर्बर मनुष्यों का युद्ध या आधुनिक साधनों से समलंकृत भीषण युद्ध- मेरी दृष्टि में सभी युद्ध हैं। चाहे उसे आप 'धर्मयुद्ध'-जैसा पवित्र नाम दें या विशेषणशून्य या विशेषणयुक्त 'युद्ध' कहें-कुछ बहुत अंतर नहीं आता है। भीतर का खूनी पिशाच ही हमें युद्ध के लिए प्रेरित करता है। कविवर दिनकर ने ठीक ही कहा है--

अनगढ़ पत्थर से लड़ो, लड़ो किटकिटा नखों से,
दाँतों से या लड़ो ऋच्छ के रोमगुच्छपूरित वज्रीकृत हाथों से,
 या चढ़ विमान पर गर्म मुट्ठियों से गोलों की वृष्टि करो,
ये तो साधन के भेद, किंतु भावों में भेद नया क्या है?
 झड़ गई पूँछ, रोमान्त झड़ें, पशुता का झड़ना बाकी है।

बाहर-बाहर तन सँवर चुका, मन अभी सँवरना बाकी है। प्राचीन काल में जो युद्ध होते थे, उनमें इतना भीषण नरसंहार नहीं होता था; क्योंकि पहले मनुष्य एक-दूसरे से पत्थर, गदा, भाले और धनुष-बाण से लड़ता था। बारूद का आविष्कार होने पर बंदूकों से लड़ाई होने लगी। बंदूकों के विकास के साथ मशीनगनों, तोपों और बमों का प्रयोग हान लगा। ध्वनि से भी तेज उड़नेवाले लड़ाकू जेट, कैनबरा तथा मिंग जैसे विमान, क्षण में ब्रह्मास्त्र की तरह संहार मचानेवाले परमाणुबम और उद्जनबम, अवनि से आकाश तक गाज गिरानेवाले ट, पृथ्वी की छाती को रौंदनेवाले टैंक, वरुण की नगरी में उत्पात करनेवाली पनडुब्बी, जंगी बेडे त्पाद ने संहार की गति को आश्चर्यजनक रूप से तीव्र कर दिया है। गत द्वितीय महायुद्ध में अमेरिक ने दो अणुबम हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराये और डेढ़ करोड़ व्यक्तियों को क्षण-भर में मौत के घाट उतार  तथा कितनों को अपाहिज बना दिया। ज्यों-ज्यों समय बीतता है, त्यों-त्यों   मारक अस्त्रों का आविष्कार अत्यंत तेजी से होता जा रहा है। आज 5 हजार मील दूर रा को भी परमाणुबम-युक्त प्रक्षेपणास्त्रों से अचूक निशाने का शिकार बनाया जा सकता है। परमाणुबमों  द्वारा भयानक बाढ़ और भूकंप उत्पन्न किये जा सकते हैं और समुद्र से घिरे द्वीपों या तटवर्ती नगरों में  जल-प्रलय मचाकर उन्हें नष्ट कर दिया जा सकता है। ऐसे-ऐसे विषों का निर्माण तथा दानवी कीटाणुओं का विकास किया गया है कि जलाशयों में उन्हें डालकर अपने विरोधियों के लिए मरण उपस्थित कर दिया जा सकता है। ऐसे-ऐसे बम-विस्फोट किये जा सकते हैं, जिनसे निकलनेवाले जहरीले कीटाणु मनुष्य को अचिकित्स्य अतिपीड़क व्याधियों का ग्रास बना सकते हैं। संसार की लगभग आधी संपत्ति का आज मनुष्यों के विनाश के लिए व्यय हो रहा है। संसार के बड़े-बड़े प्रतिभाशाली सर्जनात्मक कार्य न कर विध्वंसात्मक कार्य में दत्तचित हैं।

आखिर मनुष्य क्यों संपूर्ण सृष्टि को जीवनशून्य करने का आयोजन कर रहा है? युद्ध में जो लाखों-लाख विधवाएँ अपने पति के लिए बिलखती-विलपती हैं, लाखों बहनें जो अपनी राखी लिये रक्षाबंधन के दिन अपने दुलारे भाइयों की बाट जोहती हैं, लाखों-लाख माँ-बाप जो अपने श्रवणकुमारों के लिए छटपटाते रहते हैं, लाखों-लाख अनाथ शिशु, जो अपने जीवनदाताओं के स्नेह-चुंबन के लिए तरसते रहते हैं, क्या ये सारे दृश्य मनुष्य को रुलाने-पसीजाने के लिए कम दारुण, कम करुण हैं? जब युद्ध की होली जलती है, तब कला की शृंगार-हाट भस्मीभूत हो जाती है; जब भयानक महाभारत छिड़ता है, तब रोने-बिलखने के लिए कुछ द्रौपदियाँ और सुभद्राएँ, वृद्धा गांधारियाँ एवं कुंतियाँ ही शृगालों के साथ बच जाती हैं।

वीरगाथाकाल में उत्फुल्ल-राजीव-लोचना के लिए युद्ध होता था। मध्यकाल में पत्नियाँ अपने पतियों के गौरवदीप्त भाल को कुंकुम-तिलक से सजाकर उन्हें रणांगण में भेजती थीं और उनके निहत होने पर जौहर-व्रत मनाती थीं। आज भी उपनिवेशवादी अपने जालिम नापाक पंजों के नीचे सारे संसार को दबोचने के लिए युद्ध करते या उभारते हैं। भारत-पाक-युद्ध, इसरायल-अरब-युद्ध, अमेरिका-वियतनाम-युद्ध-ऐसी अपवित्र अभिलाषाओं के ज्वलंत दृष्टांत हैं।

हम युद्ध को जब तक धर्म, राष्ट्रोद्धार, स्वत्वस्थापना, न्याय-रक्षा इत्यादि के रेशमी आवरण देते रहेंगे, तब तक युद्ध बंद नहीं हो सकता। संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् हो या भारत का पंचशील–हमें आज युद्ध के कराल मुख में गिरने से बचाने में कोई पूर्णतः समर्थ नहीं हो रहा है। गाँधी, कैनेडी, मार्टिन लूथर जैसे महापुरुषों की हत्याएँ और ईसा-बुद्ध के उपदेश भी हमें नरसंहार से हटाने में असमर्थ हो रहे हैं। टाल्सटॉय के युद्ध और शांति' तथा कुदिता मॉरिस के 'हिरोशिमा के फूल' जैसे उपन्यासों के हृदयद्रावक वर्णन भी हमें द्रवीभूत नहीं कर रहे हैं। और, आज हम बड़ी बेचैनी से शांति का मार्ग ढूँढ़ रहे हैं। शांति के चाहे हम शतकोटि कपोत उड़ायें, शांति के स्वप्न का दुर्बल धागा भी आज जैसे टूटने को है। युद्ध के हिंसक वाण अपराधी को नहीं वरन सारे निर्दोषों को खोज रहे हैं; युद्धवाद का चक्रव्यूह आज अभिमन्युओं की तलाश कर रहा है। युयुत्सुओं की टोली मरण का अंतिम नाटक खेलने को कटिबद्ध हो रही है।

ऐसी घड़ी से संसार के चिंतक, कलाकार, साहित्यकार और दार्शनिक भी भयभीत हो जायेंगे, घबरा जायेंगे, तो प्रभु की मोहक सृष्टि पूर्णतः विनष्ट हो जाएगी। ऐसा संहार होगा कि कोई मनु हिमालय की चोटी पर नयी सृष्टि बसाने के लिए नहीं बच जाएगा। अतः, ऐसा प्रयत्न किया जाए जिससे मारक अस्त्रों का निर्माण पूर्णतः बंद हो जाय, सभी घातक अस्त्र अविलंब नष्ट कर दिये जायँ, शांति का ऐसा मंत्र फूंका जाय, जिससे मनुष्य के भीतर बैठा हिंस्र सिंह भी हरिण की तरह चौकड़ी भरने लगे और संसार मनुष्यता के सूर्योदय से प्रोद्भासित हो उठे।