Essay on Himalaya In Hindi

यदि देवात्मा हिमालय ने और कुछ भी न किया होता, केवल वह भगवती गंगा और माहेश्वरी का ही जनक होता, तो भी भारतीय जनता युगों तक इसके चरणों पर अपनी अपार श्रद्धा के प अर्पित करना नहीं भूलती। गंगा और उमा पर्वतशिरोमणि हिमालय की अक्षय कीर्ति-पताकाएँ है। गंगा, जिसने साठ हजार अभिशप्त सगरपुत्रों का उद्धार किया तथा जिसने अखंड बालब्रह्मचारी भीष्म का जनन किया और पार्वती जिसने तपस्या के बल पर कामजित प्रलयंकर शंकर को अपने प्रणयपाश में बाँधा तथा स्कंद का जनन कर महापातकी तारकासुर का विनाश किया- यह सब दोनों के धर्मात्मा पिता हिमालय का पुण्योदय था। हिमालय के माहात्म्य का कहना ही क्या! यहाँ सप्तर्षिगण अपने लोक से उतरकर कमल-पुष्प आते थे। इसके तपोवनों में बडे-बडे प्रतापी राजा विनीत वेश में प्रवेश करते थे। यहाँ के आश्रमों में सदा वेद पढ़नेवालों की वेदध्वनि होती रहती थी। संन्यासियों की समाधि यहीं लगती थी, तपस्वियों की तपस्या यहीं चलती थी। यहाँ किन्नरियाँ त्रिपुरविजय के गीत गाती थीं। यहाँ दर्पण की तरह स्वच्छ झीलों में सिद्धांगनाएँ अपना अपरूप रूप निहारती थीं। वृक्ष की कोमल टहनियों पर शिव के हास्य की तरह दुग्ध-धवल हिम यहाँ जमा रहता है। यहाँ देवदारु, अर्जुन तथा शाल के वृक्ष सेवक की तरह बंदगी बजाते रहते हैं। यहाँ कृष्णसार मृगों की चौकड़ी से मखमली फूल खिलते हैं। कभी हरिणियाँ अपनी झबरीली पूँछों से इस गिरिराज पर चँवर डुलाने का काम करती रहती थीं। इसलिए कविवर दिनकर ने ठीक ही कहा है मेरे नगपति! मेरे विशाल! साकार, दिव्य, गौरव विराट! पौरुष के पुंजीभूत ज्वाल! मेरी जननी के हिमकिरीट मेरे भारत के दिव्य भाल! मेरे नगपति! मेरे विशाल|

एक ओर हिमालय के गौरीशंकर, कृष्णशैल, धौलागिरि, कंचनजंघा, केदारनाथ, नीलकंठ जैसे तुषारमंडित शिखर सारे संसार को सात्त्विकता का संदेश देते हैं, तो दूसरी ओर सिंधु, झेलम, रावी, सतलज, व्यास, गंगा, यमुना, ब्रह्मपुत्र, सरयू, गंडकी जैसी इसकी आत्मजा नदियाँ भारत को शस्यश्यामला ही नहीं बनातीं, वरन इसके इतिहास को समुज्ज्वल कर रही हैं। इतना ही नहीं, भारत का यह अडिग प्रहरी, बर्फ का कवच धारण किये हुए, कश्मीर से कामरूप तक लगभग आठ सौ कोसों तक अपनी विशाल बाहुएँ फैलाये तथा गौरीशंकर का निशाना साधे रक्षा करता रहा है। ऐसे प्रहरी के कारण ही भारत-माँ निश्चिंतता की साँस सोती रही, उसकी संतानें मौज और मस्ती में दिन बिताती रहीं।

एक बार सहसा 1962 के 20 सितंबर को जुल्मी चीनियों ने हमारे इस दुर्द्धर्ष प्रहरी को रौंदना शरू किया। हमारा अभयदाता रक्षक एक बार तिलमिलाया। दुश्मनों के खूनी पंजों ने उसे लहलहान किया और तब इसने हमें पुकारा शंकर की पुरी चीन ने सेना को उतारा।


चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा।-नेपाली शांति की मीनार पर अशांति के बादल घिर आये। हिंद की दीवार पर विस्फोटक बमगोले बरसने लगे। सोये सागर में उफान आया। शंकर के वासुकिनाग फुफकार उठे। हमने हिमालय की पुकार पर प्राणों की बाजी लगा दी। फिर क्या था? चीनी चींटी की तरह भागते नजर आये।
हिमालय भारतीय संस्कृति का आधारस्तंभ है। यह हमारी सभ्यता का कीर्तिध्वज है। यह हमारे राष्ट्र का प्राणस्रोत है। भारत का संपूर्ण गौरवशाली अतीत इसकी गोद में व्यतीत हुआ है, इसका वर्तमान इसकी प्रेरणा से करवटें ले रहा है। हम भारतवासियों ने भिक्षा की झोली फैलाने में कभी विश्वास नहीं किया। विवशता में भी ऐसा नहीं करने को हिमालय हमें रोक रहा है।

ओ हिमालय! आप बड़े ही वयोवृद्ध, संरक्षक, धीर एवं उदार हैं। आज हम आपसे एक बात पूछना चाहते हैं कि आपने अपने हिमानी मार्गों पर गदाधारी भीम, गाण्डीवधारी अर्जुन, रूपवान नकुल, विद्याव्यसनी सहदेव तथा नयविशारदा द्रौपदी को क्यों गल जाने दिया। भारत-माँ बड़ी व्यग्रता से अपनी इन संतानों को ढूँढ़ रही है। आज विश्व में फिर एक बार लोमहर्षक महाभारत छिड़नेवाला है। अणु-अस्त्रधारी कौरवों की विशाल वाहिनी उमड़ती चली आ रही है। क्या आप उन पाण्डवों को हमें शीघ्र लौटा नहीं देंगे?