Unification of germany in hindi

जर्मनी का एकीकरण बिस्मार्क ने किया । बिस्मार्क प्रशा के शासक विलियम प्रथम का प्रधानमंत्री था।

जर्मनी का सबसे शक्तिशाली राज्य प्रशा था ।

बिस्मार्क जर्मनी का एकीकरण प्रशा के नेतृत्व में चाहता था।

विलियम को जर्मन संघ के सम्राट का ताज 8 फरवरी, 1871 ई.में पहनाया गया।

बिस्मार्क को सबसे अधिक भय फ्रांस से था।

जर्मनी में राष्ट्रीयता का संदेशवाहक नेपोलियन बोनापार्ट को माना जाता है।

जर्मनी के आर्थिक राष्ट्रवाद का पिता फ्रेडरिक लिस्टको माना जाता है।

जर्मनी राष्ट्रीय सभा को डायट के नाम से जाना जाता था, यह फ्रैंकफर्ट में होती थी।

1815 ई. से 1850 ई. के बीच जर्मन साम्राज्य पर आस्ट्रिया का आधिपत्य था। 

आस्ट्रिया का चान्सलर मेटरनिख था।

एकीकृत जर्मन राष्ट्र के निर्माण में राके, बोमर, लसर इत्यादि दार्शनिकों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

फ्रैंकफर्ट संविधान सभा का गठन मई, 1848 ई. में किया गया।

विलियम प्रथम के शासनकाल में प्रशा का रक्षामंत्री वानरून एवं सेनापति वान माल्टेक था।

23 सितम्बर, 1862 ई. को बिस्मार्क प्रशा का चांसलर बना।

बिस्मार्क का जन्म 1 अप्रैल, 1815 ई. को ब्रेडनबर्ग में हुआ था।

विलियम प्रथम ने बिस्मार्क को बाजीगर कहा था।

सेरेजोवा के युद्ध में 1866 ई. में आस्ट्रिया ने प्रशा के आगे आत्मसमर्पण कर दिया। 23 अगस्त, 1866 ई. के प्राग संधि के तहत आस्ट्रिया जर्मन संघ में शामिल हुआ।

फ्रांस एवं प्रशा के बीच सेडान का युद्ध 15 जुलाई, 1870ई. को हुआ। नेपोलियन तृतीय ने प्रशा के आगे 1 सितम्बर, 1870 ई. को आत्मसमर्पण किया। बिस्मार्क ने जर्मनी के सम्राट विलियम प्रथम का राज्याभिषेक वर्साय के राजमहल में किया।

फ्रैंकफर्ट की संघि 10 मई , 1871 ई. को फ्रांस और प्रशा के बीच हुई।

सूडान के युद्ध के बाद जर्मनी का एकीकरण संभव हो सका।