भारत और चीन के बीच विवाद के प्रमुख मामले निम्नलिखित हैं -

(1) सीमा-विवाद : चीन ने पाकिस्तान के साथ सन्धि करके सन् 1963 ई. में कश्मीर का कुछ भाग अपने अधीन कर लिया है, जिसे तथाकथित पाकिस्तान द्वारा हथियाये गये कश्मीर का हिस्सा माना जाता है। कश्मीर के विवादास्पद हिस्से में वह सड़क और अन्य परियोजनाएँ बना रहा है।

(2) चीन ने सन् 1962 ई. में लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश पर अपने दावे को जबरन स्थापित करने के लिए भारत पर आक्रमण कर दिया था। जिसकी वजह से “हिन्दी चीनी भाई-भाई" की भावना और एशिया के दो महान पड़ोसी देशों के सदियों पुराने चले आ रहे मित्रता के संबंधों को भारी ठेस पहुंची।

(3) चीन भारत के एक राज्य अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा करता है। चीन ने यह मानने से भी इन्कार कर दिया है कि सिक्किम भारत का अभिन्न अंग है।

(4) सन् 1965 ई. में जब पाकिस्तान ने भारत पर आक्रमण किया तो चीन ने उसकी मदद की। इससे भारतवासियों की भावनाएं आहत हुईं। स्वाभाविक तौर पर दोनों देशों के संबंध और खराब हो गये। आज भी वह पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी नेताओं पर कारवायी में अगा लगाता है।

(5) चीन भारत के परमाणु परीक्षणों का विरोध करता है, जबकि वह स्वयं परमाणु अस्त्र-शस्त्र रखता है।

(6) हिन्द माहासागर एवं दक्षिण एशिया में अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहता है।