Write an essay on Non-Aligned Movement in hindi

अंतर्राष्ट्रीय व्यवहार में स्वतंत्र नीति का पालन एवं किसी भी प्रकार के सैन्य गुट या अन्य गुटबाजी से अलग रहकर, स्वयं के विकास तथा विश्व शांति को सुनिश्चित करने की नीति को गुट-निरपेक्षता के नाम से जाना जाता है। गुट निरपेक्ष आन्दोलन वस्तुत:महाशक्तियों के गुटों में शामिल न होने का आन्दोलन है।

द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद शीत युद्ध ने विश्व को दो प्रतिद्वंद्वी गुटों में बाँट दिया। विश्व दो ध्रुवीय हो गया और तनाव बढ़ रहा था। इस चुनौतीपूर्ण स्थिति के संदर्भ में गुट निरपेक्षता ने एशिया और अफ्रीका

और लातिनी अमेरिका के नव-स्वतंत्र देशों को एक तीसरा विकल्प दिया। यह विकल्प था, दोनों महाशक्तियों के गुटों से अलग रहने का। 1961 में पहला अंतरर्राष्ट्रीय गुट-निरपेक्ष सम्मेलन बेलग्रेड में हुआ, जहाँ गुटनिरपेक्ष आंदोलन का जन्म हुआ। ___ गुट निरपेक्ष आन्दोलन के पाँच नेता संस्थापक सदस्य थे - यूगोस्लाविया के जोसफ ब्रॉज टीटो, भारत के जवाहर लाल नेहरू, मिस्र के गमाल अब्दुल नासिर, इंडोनेशिया के सुकर्णो और घाना के वामे एनक्रूमा।