Write an article on 'Cuban Missile Crisis' in hindi

 (i) क्यूबा अमेरीका के तट से लगा हुआ एक छोटा-सा द्वीपीय देश है। 1962 में सोवियत संघ के नेता नीकिता खुश्चेव ने क्यूबा को रूप से सैनिक अड्डे के रूस में परिवर्तित करने का निर्णय किया और वहाँ पर परमाणु मिसाइलें तैनात कर दी।

(ii) इन हथियारों के कारण अमेरीका सोवियत संघ के निकट निशाने पर आ गया क्योकिं सोवियत संघ अमेरीका के अधिक ठिकानों और शहरों पर आक्रमण कर सकता था। अत: अमेरीकी राष्ट्रपति कैनेडी व उनके परामर्शदाता परमाणु मिसाइलों को क्यूबा से हटाने के पक्ष में थे। वे परमाणु युद्ध भी नहीं चाहते थे।

(ii) अतः उन्होंने अमेरीकी जंगी बेड़ों को भेजकर सोवियत जहाजों को रोकने का निर्णय लिया।

(iv) उस समय ऐसा लगता था कि परमाणु युद्ध हो सकता है परंतु दोनों देशों ने बुद्धि और समझ से काम लिया। सोवियत संघ के जहाजों ने अपनी गति कम कर दी या वापस चले गये। इस प्रकार यह संकट टल गया। यही संकट क्यूबा मिसाइल संकट के नाम से प्रसिद्ध है।

इस संकट में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले दो विश्वविख्यात नेता अमेरीका के राष्ट्रपति जान एफ. कैनेडी और सोवियत संघ के नेता नीकिता खुश्चेव थे।