Mention the failures of the Soviet system

(i) सोवियत संघ प्रौद्योगिकी और बुनियादी ढाँचे के मामले में पश्चिमी देशों की तुलना में पीछे रह गया था।

(ii) हालाँकि सोवियत संघ में लोगों का पारिश्रमिक लगातार बढ़ा लेकिन उत्पादकता और प्रौद्योगिकी के मामले में वह पश्चिम के देशों से बहुत पीछे छूट गया।

(iii) पश्चिम के देशों में सूचना और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में क्रांति हो रही थी और सोवियत संघ को इसकी बराबरी में लाने के लिए सुधार जरूरी हो गया था।

(iv) गोर्बाचेव ने देश के अन्दर आर्थिक-राजनीतिक सुधारों और लोकतंत्रीकरण की नीति चलायी। सोवियत संघ की जनता तथा स्वयं गोर्बाचेव ने भी महसूस किया कि अनेक वर्षों से उनके देश की अर्थव्यवस्था की गति अवरुद्ध हो रही थी।

(v) सोवियत संघ ने 1979 ई. में अफगानिस्तान में हस्तक्षेप किया। इससे सोवियत संघ की व्यवस्था और भी कमजोर हुई।

(vi) सबसे बड़ी बात यह थी कि सोवियत संघ अपने नागरिकों की राजनीतिक और आर्थिक आकांक्षाओं को पूरा नहीं कर पा रहा था।

(vii) देश में उपभोक्ता वस्तुओं की बड़ी कमी महसूस हो रही थी। खाद्यान्न का आयात निरन्तर बढ़ता जा रहा था।

(viii) गोर्बाचेव ने सैन्य व्यय को कम करके राष्ट्रीय संसाधन को विकास कार्यों में लगाने के लिए यह आवश्यक समझा कि पश्चिमी देशों के साथ सम्बन्धों को सामान्य बनाया जाय। जनता को राजनीतिक अधिकार देने तथा दम घुटाने वाली पार्टी-प्रभुत्व वाली राजनीतिक फिजा से छुटकारा देने के लिए सोवियत संघ को लोकतांत्रिक बनाया जाय।