सेवा में, 

       श्रीमान प्रधानध्यापक,

      राजकिय बुनियादि, विधालय गोविंदपुर।


महाशय


  सविनय निदवेदन है कि मैं आपके विद्यालय की अष्टम श्रेणी का एक अत्यंत निर्धन छात्र हूँ। मेरे पिताजी आपके विद्यालय में चपरासी का काम करते है। उन्हें जो वेतन मिलता है, वह आप जानते है। हमारे परिवार में कुल दस सदस्य हैं जिनके भरण-पोषण का सरार दायित्व उन्हीं पर है। 

वेतन के सिवा उनकी आय का अन्य कोई स्त्रोत भी नही। 


अतः आपसे कनबद्ध प्रार्थना है कि आप मुझे विद्यालय-शुल्क से पूर्णतः मुक्त कर दें, जिससे कि मै अध्ययन जारी रख सकूँ। आपके इस उपकार के लिए मेरा रोम-रोम आपका आभारी रहेगा। 


12-05-2020                                                                                  अपका आज्ञाकारी शिष्य

                                                                                                           प्रविन कुमार

                                                                                                  अष्टम श्रेणी, क्रमांक 21