सेवा में, 

                 श्रीमान प्राचार्य,

                 डी.ए.वी पब्लिक स्कूल, 

                 मैथन,


महाशय, 

       सविनय निवेदन है कि मेरे बड़े भाई के असामयिक निधन के कारण हमारे परिवार की स्थिति बड़ी दयनीय हो गयी है। हमारे परिवार में वे ही एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे जिनकी कमाई से सरे परिवार का भरण-पोषण होता था। उनके उठ जाने से रोटियों के लाले पड़ गये है। आपकी अनुकंपा से मै पहले से ही विद्यालय-शुल्क से मुक्त था। बड़ी कृपा हो, यदि आप निर्धन-छात्र-कोष से काम-से-कम सौ रूपये का अनुदान दें ताकि मै कुछ आवश्यक पुस्तके खरीदकर अपना अघ्ययन चला सकूँ। 


आपकी दयालुता किसी से छिपी नहीं है। अतः, मुझे पूरी आशा एवं दृढ़ विश्वास है कि आप मुझ दीन दुर्भगयग्रस्त छात्र की सहायता कर मेरे अध्ययन-यज्ञ के परोधा बनेंगे। 


12.05.2020                                                                                            आपका आज्ञाकारी छात्र 

                                                                                                                  राजकुमार राणा

                                                                                                               नवम श्रेणी, क्रमांक 55