सेवा में, 

       परमादरणीय शिक्षामंत्री, 

      मानव संसाधन विकास, झारखण्ड सरकार,

      नया सचिवालय, रांची। 

      विषय: पुस्तकालय के लिए अनुदान—याचना


महाशय,

       सेवा में सविनय निवेदन है कि नामकुम जैसे प्रसिद्ध स्थान में भी कोई उत्तम पुस्तकालय नहीं है। एक राजकुमार पुस्तकालय है भी, तो उसमें उत्तम पुस्तकों का अत्यंत अभाव है। आप स्वयं जानते है कि उत्तम पुस्तकालय का अर्थ नभचुंबी भवन नही होता। पुस्तकालय के लिए ऐसा स्त्रोत आवश्यक है, जो कभी सूखे नहीं तथा जिससे हर वष्र विभिन्न विषयों की नयी—नयी पुस्तके तथा पत्र—पत्रिकाएँ खरीदी जा सके। 


 अत: आपसे करबद्ध प्रार्थना है कि आप अने राज्य के बजट से एक पुस्तकालय के लिए दस हजार रूपये वार्षिक अवर्तक अनुदान की व्यवस्था कर दें जिससे हमारे क्षेत्र की जनता का ज्ञानवद्र्धन हा तथा यहाँ जागरण की लहर फैल सके। 


12—06—2020                                                                                                  आपका​ विश्वासी 

                                                                                                                        नन्द किशोर शर्मा