रामनिवास,

                                                                                                                            बलिया रोड, नामकुम

                                                                                                                               12—06—2020


प्रिय सुमन,

  शुभशिष!


तुम्हारे पूजय पिताजी के आसामयिक निधन का सामाचार जानकर मुझे इतना मर्मांतक दु:ख हुआ कि मैं कह नहीं सकता। इस समय तो तुम सबके ऊपर पहाड़ ही टूट पड़ा है। किंतु, मृत्यु के ऊ किसका अधिकाकर है? तुम तो जानती हो, 'हानि—लाभ, जीवन—मरण, यश—अपयश विधि हाथ!'


इस हृदय—विदारक घडत्री में मै मंगलमय प्रभु से प्रार्थना करता हूॅं कि वे दिवंगत आत्म को परमशांति दें तथा तुम सबकों कष्ट—सहन की शक्ति प्रदार करें। धैर्यं, धर्म और मित्र की पहचान तो मुसीबत में ही होती है। यदि इस समय तुम्हारे काम आ सकूॅं, तो अपने को धन्य मानूॅंगा।


                                                                                                                                        तुम्हारा शुभेच्छु

                                                                                                                                            बलराम


पता—.............

.............