hijack


उस दिन चारों दोस्त बहुत खुश थे. वे सभी घूमने के लिए गोवा जा रहें थे और वह भी हवाईजहाज से. उन सब की यह पहली हवाई यात्रा थी. इसलिए हवाईअड्डा पर ही वे रोमांच महसूस कर रहे थे।

''जरा कल्पना करो, जगमीत. हम बादलों के ऊपर से उड़ेगे,'' आर्यन बोला.
''हां आर्यन, कितना मजा आएगा, न. मुझे तो डर लगेगा. इसलिए मै खिड़की की तरफ नहीं बैठूंगी. नीचे देखने से चक्कर आ गया तो, '' अनीशा ने अपनी शांका जताई।

तभी स्पीकर द्वारा घोषणा हुई, ''गोवा जाने वाले सभी यात्रियों से निवेदन है कि सिक्योरिटी चैकिंग के लिए आगे आ जाएं,''
चारों अन्य यात्रियों के साथ 'क्यू' में आ गए।

''आर्यन, देखों, वह मिनिस्टर साहब भी हमारे साथ जा रहे है।

उन के साथ आए बॉडिगाड्स की गन्स देखों, कितनी खतरनाक लगती है, ''अनीशा ने दिखाया।

''हुं..... मिनिस्टर.... कितना अच्छा होता कि इस की बजाय कोई बढ़िया फिल्म स्टार हमारी फ्लाईट में होता, ''जगमीत ने मुंअ बना कर कहा।

''तुम कभी नहीं सुधरोगे, जगमीत,  ''हर्ष ने कहा।
जल्दी ही चारों विमान में अपनी अपनी सीट पर बैठे थें। उन के पीछे अनीशा और जगमीत थे।
जल्दी ही हवाईजहाज ने उड़ान भरी। सभी यात्री सीट बैल्ट्स खोल चुके थे। अचानक एक बड़ी मूंछो वाला और एक गंजा यात्री अपनी सीट से उठ खड़े हुए। दोनो ने अपने अपने रिवाल्वर निकाल लिए।
''खबरदार, कोई भी यात्री अपनी जगह से नहीं हिलेगा। हम प्लेन को हाईजैक कर रहे है। हम आक्टोपस गैंग के सदस्य है। टौम, तुम कौकपिट पर कब्जा कर के पायलट को जरूरी आदेश दो,'' बड़ी मूंछो वाले ने कहा। उस का नाम जैकी था।

टौम कौकपिट में घुस गया। यात्रियों में आतंक फैल गया। तब जैकी ने कहा, ''और हां मिनिस्टर साहब, अपने बौडीगाड्स को जरा शांत रखिएगा। मेरे हाथ में रिमोट देख रहे हैं ना, पूरे प्लेन को बम से उड़ा दूंगा।''

''ठ... ठीक है, ''मिनिस्टर ने कहा।

''हम पचास लाख रूपए चाहिए। पूरे रूपए मिलने के बाद ही हम प्लेन को छोड़ेगे। तब तक प्लेन हमारे अड्डे पर रहेगा।''

सभी यात्री चुपचाप बैठ गए थें हर्ष ने आर्यन से कहा, ''अब क्या करे, आर्यन। सिर मुंडाते ही ओले पड़ गए। मिनिस्टर की सिक्योरिटी भी फेल हो गई,''

''मै भी वही सोच रहा हूॅं। हमारे होते प्लेन हाईजैक हो गया तो.....''

''एक आईडिया हैं जरा देखों, यह बदमाश अकेला पैसेज के हरे कालीन पर खड़ा है। अगर हम दूसरी तरफ से कालीन खींच कर उसे गिरा दे तो,''

''वाह हर्ष, आइडिया तो लाजवाब है, लेकिन कालीन प्लेन की फर्श से चिपका हे''

''ओह, यह तो मैं ने सोचा ही नहीं था।''

अचानक आर्यन उछल पड़ा, 'शुक्रिया हर्ष, तुम्हारे आइडिया ने मुझे दूसरा आइडिया दे दिया। सुनो, तुम ऐसा करना कि....'' अचानक आर्यन अपनी सीट से खड़ा हो गया।

''ऐ छोकरे, तू क्यों उठ गया? मरना है क्या?'' जैकी ने गुस्से से पूछा।

"नहीं, मुझे सिर्फ बाथरूम जाना है. प्लीज, जाने और आर्यन ने कहा।
"तु कहीं नहीं जाएगा. चुपचाप सीट पर बैठ जा."

"देखो, प्लीज समझने की कोशिश करो," आर्यन गिड़गिड़ाया।

"ठीक है, शैतान लड़के," जैकी ने इजाजत देते हुए कहा आर्यन उस के सामने से गुजरता हुआ पीछे पहुंच गया।

प्लेन में एक बूढ़ी औरत भी बैठी थी. ए.सी. के कारण उसे ठंड लग रही थी, इसलिए वह शाल में लिपटी हुई थी. उस की शाल का कुछ हिस्सा कार्पेट पर गिरा हुआ था और जैकी ठीक उस के ऊपर खड़ा था।

आर्यन ने तुरंत पीछे मुड़ कर तेजी से शाल को खींच लिया।

जैकी लड़खड़ा कर गिर पड़ा. एक ओर से आर्यन ने झपट कर जैकी का रिमोट हथिया लिया तो दूसरी ओर से हर्ष ने कूद कर उस का रिवाल्वर उठा लिया. कि बौडीगार्डों ने भी तुरंत जैकी को दबोच लिया. तब आर्यन ने उस से कहा, "प्लीज, शोर न मचाइए. इस का साथी काकपिट में सावधान हो जाएगा. हमें उसे भी काबू में करना होगा."

एक बौडीगार्ड ने अपनी गन संभाली और हौले से दरवाजा खोल कर काकपिट में घुस गया. उस ने चुपचाप अपनी गन टौम की पीठ पर टिका दी और उसे भी रिवाल्वर फेंकने के लिए मजबूर कर दियां

इस तरह दोनों हाइजैकर्स को पकड़ लिया गया और बांध कर एक तरफ डाल दिया गया. गोवा एयरपोर्ट की पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया. सभी यात्री आर्यन की तारीफ करते नहीं थक रहे थे. मिनिस्टर साहब ने भी उन की पीठ थपथपा कर उसे इनाम दिलवाने का वादा कियां