निचूपाड़ा
272, शास्त्री नगर
हजारिबाग

18-05-2013
प्रिय मित्र आकाश
       प्रेम !
       कल में नवभारत टाइम्स में तुम्हारी शानदार सफलता के संबंध में जानकारी प्राप्त कर मुझे जो हार्दिक प्रसन्नता हुई उसे मेरे लिए शब्दों में बाँध पाना कठिन है। प्रिय आकाश ! मुझे तु से यही आशा थी। तुम्हारी पढ़ाई के प्रति निष्ठा और लगन को देखकर मुझे पूर्ण विश्वास हो गया था, कि आगामी दसवीं की परीक्षा में छात्रवृति प्राप्त कर तुमने अपने परिवार तथा विद्यालय को गौरवान्वित करोगे। परमात्मा का कोटिशः ध्न्यवाद है कि उसने तम्हारे परिश्रम का उचित फल तुम्हे दिया है।
प्रिय आकाश! अपनी इस शानदार सफलता पर मेरी हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए। मै परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि जीवने में सफलता सदैव इसी प्रकार तुम्हारे चरण चूमती रहे तथा तुम जीवने में अत्तरोत्तर इसी प्रकार उन्नति के पथ शानदार रहेगा। मेरी शुभकामनाएँ सदैव तुम्हारे साथ है।
तुम्हारा अभिन्न हृदय
राहुल