शेरपुर, छपरा
                                               14 अप्रैल 2007
मेरे प्रिय सचिन, 


 पटना से भेजा हुआ यह तुम्हारा पहला पत्र मिला। तुम मेरे जीवन के उद्देशय के बारे में जानना चाहते हो।

   मैं डॉक्टर बनना चाहता हॅूं। भारत में अच्छे डॉक्टरो की जरूरत है। मैं ग्रामीणो की सेवा करना चाहता हॅूं। अत: मै अपने गॉंव मे रहना चाहता हॅूं। मै गरीब लोगो से फीस नहीं लूॅंगा।
  लेकिन डॉक्टर बनना आसान नहीं है। मै परिश्रम से पढ़ता हूॅं। मुझे उम्मीद है मेरा सपना सच होगा।


अपने माता—पिता से मेरा प्यार कह देना।


                                                          तुम्हारा विशवासी,
                                                              आकाश