मानिकपुर  वैशाली
                                                                                                    25 मई 2015

मेरे प्रिय ओम,

    बहुत दिनों से मैनो तुम्हारा पत्र नही पाया है। आशा है, तुम अच्छे हो।

तुम जानते हो कि मेरा जनमदिन 1 अगस्त को है। उस दिन मैं चौदह वर्ष का हो जाउगॉं। हमलोग इसे एक छोटे उत्सव के रूप में मनाना चाहते हैं। मै अपने सब मित्रो को आमंत्रित कर रहा हूॅं। उस दिन तुमको मेरे घर पर 6 बजे शाम को आना है। हमलोग कुछ खेलेगे। मेरी मॉं बहुत सारा खाना पकाएॅंगी।
बहुूत मजा आएगा।

 बहुत—बहुत प्रेम से साथ,
                                                                                                      तुम्हारा विश्र्वासी,
                                                                                                          सुभाष