उच्च विधालय, कुमारधुबी
                                                                                    15 अप्रैल 2011

प्रिय आलोक,
   
     मैंने अभी—अभी तुम्हारा पत्र पाया है। तुम जानना चाहते हो कि मै ग्रीष्मावकाश कैसे बिताना चाहता हूॅंं । मेरा विद्यालय एक महीना के लिए जून में बंद हो रहा है। मुझे उसका सबसे अच्छा उपयोग करना हें।

   सबसे पहले मैं अपने भाइ्र से मिलने दिल्ली जाना चाहता हूॅं। मै उनके साथ एक सप्ताह ठहरूॅंगा। जब मैं लौटूॅंगा, मै अपने परिवार के साथ एक सप्ताह बिताना चाहूॅंगा। उसके बाद मै कठिन श्रम के साथ पढ़ूॅंगा। इसी तरह अपना ग्रीष्मावकाश बिताने की मेरी योजना है।

स्प्रेम,
                                                                                               तुूम्हारा विश्वासी,
                                                                                                       सचिन