गॉंधी पार्क, भागलपुर
                                                      14 अप्रैल 2009


प्रिय राकेश,
 
     तुम्हारे सूंदर पत्र के लिए धन्यवाद। मैं गत सप्ताह कोलकाता गया था। शायद तुम उसके बारे में जानना चाहोगे।

  कोलकाता बहुत बड़ा शहर है। वह पश्चिम बंगाल की राजधानी है। वह बहुत व्यस्त शहर है। वह कोलाहलपूर्ण भी रहता है। ट्रामें तथा बसें ठसाठस भरी रहती है। कोलकाता का जीवन पूर्णत: सक्रिय है। प्रत्येक आदमी मशीन की तरह काम करता है।

  किंतु, वहॉं कुछ अच्छी चीजें भी है। मुझे भूमिगल रेलवे पसंद आई। चिड़िायाघर वास्तव में आश्चय्रजनक हैं तुम्हे एक बार इस शहर को अवश्य देखना चाहिए।

सप्रेम,
                                          सदैव तुम्हार ही,
                                            आलोक