नेतरहाअ, रॉची
                                                                                   10 मई 2008
मेरे प्रिय रघुविर,

  मुझे अभी—अभी तुम्हारा पत्र मिला है। मुझे यह जानकर खुशी है कि तुम मेरे स्कूल के बारे में जानना चाहते हो।
मेरा स्कूल एक पहाड़ी पर हे। चारों ओर जंगल है। मेरे स्कूल को एक बड़ा भवन है। एक बड़ा खेल का मैदान है। यहॉं लगभग चालीस शिक्षक है। मेरे स्कूल में लगभग छह सौ छात्र है। एक बड़ा पुस्तकालय है। सब लड़के छात्रावास में रहले हैं। हमारा स्कूल देश के सबसे उच्छे स्कूलो में एक है।
पिताजी के साथ कृपया यहॉं आओं। तुम इस स्कूल को पसंद करोगे।
बहुत—बहुत प्यार के साथ, 
                                                                                                       तुम्हारा प्यारा भाई,
                                                                                                             जगदीप