रॉंची
                                                          1 जून, 2007
पूज्यनीया मॉं, 


   कल मुझे आपका पत्र मिला । मै उसे पढ़कर बहुत खुश हुआ। यहॉं बहुत गर्मी है। मैं गत सप्ताह बीमार पड़ गया था। मुझे बुखार था। किंतु, अब मैं ठी हूॅं।


  आप जानती हैं कि मै अॅंगरेजी में कमजोर हूॅं। लेकिन एक नए अॅंगरेजी शिक्षक विद्यालय में आए हें। वे बहुत अच्छी तरह पढ़ाते है। वे मेरी बड़ी सहायता करते हैं। आजकल मैं बहुत कठोर श्रम करता हूॅं। मेरे लिए तुम चिंता मत करेंं


प्यार के साथ, 
                                                       आपका प्यारा पुत्र,
                                                            नविन