पटना,
                                                                                                        10  मार्च 2005
पज्य पिताजी, 


   आपके कृपा पत्र के लिए धन्यवाद। मुझे यह जानकर खुशी है कि आप
सब घर पर बिलकुल अच्छे है।


   पिताजी, मेरे वर्ग में पढ़ाई चल रही है। मुझे कुछ पुस्तकें खरीदनी है। इसलिए मुझे कुछ रूपयों की आवश्यकता है। कृप्या मुझो एक सौ पचास रूपए शीघ्र भेज दें।


   कृपया मेरा प्यार मॉं से कह दे। उन्हे और अधिक पत्र लिखने कि लिए कहें।
                                             
                                                                                                        आपका प्यारा पुत्र,

                                                                                                              दिपक